» Importance Of Green Bangles In Hariyaali Teej (हरियाली तीज में हरी चूड़ियों का महत्व)

Importance Of Green Bangles In Hariyaali Teej (हरियाली तीज में हरी चूड़ियों का महत्व)

Festival: Hariyali Teej

इस त्योहार में हरी चूड़ियां, हरा वस्त्र और मेंहदी का विशेष महत्व है। मेंहदी सुहाग का प्रतीक चिन्ह माना जाता है। इसलिए महिलाएं सुहाग पर्व में मेंहदी जरूर लगाती है। इसकी शीतल तासीर प्रेम और उमंग को संतुलन प्रदान करने का भी काम करती है।

ऐसा माना जाता है कि सावन में काम की भावना बढ़ जाती है। मेंहदी इस भावना को नियंत्रित करता है। हरियाली तीज का नियम है कि क्रोध को मन में नहीं आने दें। मेंहदी का औषधीय गुण इसमें महिलाओं की मदद करता है।

परिवार की खुशहाली

सावन में पड़ने वाली फुहारों से प्रकृति में हरियाली छा जाती है। सुहागन स्त्रियां प्रकृति की इसी हरियाली को अपने ऊपर समेट लेती हैं। इस मौके पर नई-नवेली दुल्हन को सास उपहार भेजकर आशीर्वाद देती है।

कुल मिलाकर इस त्योहार का आशय यह है कि सावन की फुहारें की तरह सुहागनें प्रेम की फुहारों से अपने परिवार को खुशहाली प्रदान करेगी और वंश को आगे बढ़ाएगी।

Fairs Around The World
India

The Yellamma Devi fair is held at the Yellamma temple located in Saundatti of Belgaum district...

India

Nagaur district is the land of fairs as they are not only cattle markets but in real terms a w...

India

Nanda Devi Raj Jat is one of the world famous festivals of Uttarakhand in India.People ...

India

The Sheetla Mata Fair of Chaksu, Rajasthan is dedicated to Sheetla Mata, goddess of epidemic dise...

India

The Bahu Mela is celebrated in honor of the Goddess Kali whose temple lies in the Bahu Fort. T...

India

Kundri Mela held in Jharkhand is one of the very popular cattle fairs in the state. As a state...

India

Varanasi is the Sacred city for Hindus.  Ramlila festival is celebrated in great manner i...

Copyright © FestivalsZone. All Rights Reserved.