» Shradh Culture (श्राद्ध संस्कार)

Shradh Culture (श्राद्ध संस्कार)

Festival:

मृतक के लिए श्रद्धा से किया गया तर्पण, पिण्ड तथा दान ही श्राद्ध कहा जाता है और जिस मृत व्यक्ति के एक वर्ष तक के सभी और्ध्व दैहिक क्रिया-कर्म सम्पन्न हो जाते हैं, उसी को "पितर" को पितर कहा जाता है. वायु पुराण में लिखा है कि "मेरे पितर जो प्रेतरुप हैं, तिलयुक्त जौं के पिण्डों से वह तृप्त हों. साथ ही सृष्टि में हर वस्तु ब्रह्मा से लेकर तिनके तक, चाहे वह चर हो या अचर हो, मेरे द्वारा दिए जल से तृप्त हों".

श्राद्ध के मूल में उपरोक्त श्लोक की भावना छिपी हुई है. ऎसा माना जाता है कि श्राद्ध करने की परम्परा वैदिक काल के बाद से आरम्भ हुई थी. शास्त्रों में दी विधि द्वारा पितरों के लिए श्रद्धा भाव से मंत्रों के साथ दी गई दान-दक्षिणा ही श्राद्ध कहलाता है. जो कार्य पितरों के लिए "श्रद्धा" से किया जाए वह "श्राद्ध" है.

Fairs Around The World
India

Garhmukteshwar is holy place, situated at the bank of holy river Ganga. Garhmukteshwar is famo...

India

The Banganga Fair of Jaipur, Rajasthan takes place near a stream, approximately 11 km from the...

India

The Bahu Mela is celebrated in honor of the Goddess Kali whose temple lies in the Bahu Fort. T...

India

one of the most famous stories in Hindu Puranas, Renuka the wife of Rishi Jamdagni and mother ...

India

The Urs Fair is dedicated to Khwaja Moin-ud-din Chishti, the Sufi saint. It is organized on th...

India
Shattila Ekadashi...
India

Nanda Devi Raj Jat is one of the world-famous festivals of Uttarakhand in India. People...

Copyright © FestivalsZone. All Rights Reserved.