» Vasanti Nav Sasyesti
Vasanti Nav Sasyesti

Vasanti Nav Sasyesti

Category: Festival
Celebrated In: India in Others Season
Celebrated By: Hindu (Hindu)
होली पर्व का प्राचीनतम नाम वासन्ती नव सस्येष्टि है अर्थात् बसन्त ऋतु के नये अनाजों से किया हुआ यज्ञ, परन्तु होली होलक का अपभ्रंश है।

यथा– तृणाग्निं भ्रष्टार्थ पक्वशमी धान्य होलक: (शब्द कल्पद्रुम कोष) अर्धपक्वशमी धान्यैस्तृण भ्रष्टैश्च होलक: होलकोऽल्पानिलो मेद: कफ दोष श्रमापह।(भाव प्रकाश)
अर्थात् ― तिनके की अग्नि में भुने हुए (अधपके) शमो-धान्य (फली वाले अन्न) को होलक कहते हैं। यह होलक वात-पित्त-कफ तथा श्रम के दोषों का शमन करता है।

होलिका ― किसी भी अनाज के ऊपरी पर्त को होलिका कहते हैं - जैसे-चने का पट पर (पर्त) मटर का पट पर (पर्त), गेहूँ, जौ का ऊपर वाला पर्त। इसी प्रकार चना, मटर, गेहूँ, जौ की गिदी को प्रह्लाद कहते हैं।

होलिका को माता इसलिए कहते है कि वह चनादि का निर्माण करती (माता निर्माता भवति) यदि यह पर्त पर (होलिका) न हो तो चना, मटर रुपी प्रह्लाद का जन्म नहीं हो सकता। जब चना, मटर, गेहूँ व जौ भुनते हैं तो वह पट पर या गेहूँ, जौ की ऊपरी खोल पहले जलता है, इस प्रकार प्रह्लाद बच जाता है। उस समय प्रसन्नता से जय घोष करते हैं कि होलिका माता की जय अर्थात् होलिका रुपी पट पर (पर्त) ने अपने को देकर प्रह्लाद (चना-मटर) को बचा लिया।

अधजले अन्न को होलक कहते हैं। इसी कारण इस पर्व का नाम "होलिकोत्सव" है और बसन्त ऋतुओं में नये अन्न से यज्ञ (येष्ट) करते हैं। इसलिए इस पर्व का नाम "वासन्ती नव सस्येष्टि" है। 

अर्थात ― वासन्तो = वसन्त ऋतु, नव = नये, येष्टि = यज्ञ।

इसका दूसरा नाम नव सम्वतसर है। मानव सृष्टि के आदि से भारत की परम्परा है कि वह नवान्न को सर्वप्रथम अग्निदेव और पितरो को समर्पित करके स्वयं ग्रहण करते थे। 

हमारा कृषि वर्ग दो भागों में बँटा है ―
(1) वैशाखी, (2) कार्तिकी। 
इसी को क्रमश : वासन्ती और शारदीय एवं रबी और खरीफ की फसल कहते हैं। फाल्गुन पूर्णमासी वासन्ती फसल का आरम्भ है। अब तक चना, मटर, अरहर व जौ आदि अनेक नवान्न पक चुके होते हैं। अत: परम्परानुसार, पितरों देवों को समर्पित करें, कैसे सम्भव है। तो कहा गया है –

"अग्निवै देवानाम मुखं" अर्थात् अग्नि देवों–पितरों का मुख है जो अन्नादि शाकल्यादि आग में डाला जायेगा। वह सूक्ष्म होकर पितरों देवों को प्राप्त होगा।
प्रतिवर्ष होली जलाते समय उसमें आखत डालते है वो अक्षत का अपभ्रंश रुप हैं, अक्षत चावलों को कहते हैं और अवधि भाषा में आखत को आहुति कहते हैं। कुछ भी हो चाहे आहुति हो, चाहे चावल हों, यह सब यज्ञ की प्रक्रिया है। आप जो परिक्रमा देते हैं यह भी यज्ञ की प्रक्रिया है। क्योंकि आहुति या परिक्रमा सब यज्ञ की प्रक्रिया है, सब यज्ञ में ही होती है।

इस प्रक्रिया से सिद्ध हुआ कि भारत में प्रतिवर्ष सामूहिक यज्ञ की परम्परा रही होगी इस प्रकार चारों वर्ण परस्पर मिलकर इस होली रुपी विशाल यज्ञ को सम्पन्न करते थे। आप जो गुलरियाँ या गेहूँ के बाल जलाते हो यह प्रक्रिया छोटे-छोटे हवन की है। 

सामूहिक बड़े यज्ञ से अग्नि ले जाकर अपने-अपने घरों में हवन करते थे। बाहरी वायु शुद्धि के लिए विशाल सामूहिक यज्ञ होते थे और घर की वायु शुद्धि के लिए छोटे-छोटे हवन करते थे दूसरा कारण यह भी था।

ऋतु सन्धिषु रोगा जायन्ते अर्थात् ऋतुओं के मिलने पर रोग उत्पन्न होते हैं, उनके निवारण के लिए यह यज्ञ किये जाते थे। यह होली हेमन्त और बसन्त ऋतु का योग है। रोग निवारण के लिए यज्ञ ही सर्वोत्तम साधन है। अब होली प्राचीनतम वैदिक परम्परा के आधार पर समझ गये होंगे कि होली नवान्न वर्ष का प्रतीक है।

होली उत्सव यज्ञ का प्रतीक है। स्वयं से पहले जड़ और चेतन देवों को आहुति देने का पर्व हैं। इसके वास्तविक स्वरुप को समझ कर इस सांस्कृतिक त्योहार को मनाये। होलिका दहन रूपी यज्ञ में यज्ञ परम्परा का पालन करते हुए शुद्ध सामग्री, तिल, मूंग, जड़ी बूटी आदि का प्रयोग करना चाहिये।

Vasanti Nav Sasyesti Dates

Fairs Around The World
India

Vaisakh Purnima, the birthday of Lord Buddha is celebrated with much religious fervor across m...

India

Chitra-Vichitra Mela is a purely tribal fair that takes place in the Gumbhakhari village, whic...

India

The day of Kartik Purnima is often referred to as Raas Purnima in West Bengal when Raas Leelas...

India

The Vautha Fair is the very big Animals fair held in Gujarat,india. which was involve wholesom...

India

The Godachi fair is the most important fair in Karnataka. This fair is organized in the Godachi v...

India

Trilokpur stands on an isolated hillock about 24 K.M. southwest of Nahan. Trilokpur implies th...

India

Jhiri Mela - A tribute to a legendary farmer is an annual fair held in Jammu every year in the...

Copyright © FestivalsZone. All Rights Reserved.