» हरियाली तीज की पूजा विधि

भगवान शिव और पार्वती के पुर्नमिलाप के उपलक्ष्य में मनाए जाने वाले इस त्योहार के बारे में मान्यता है, कि मां पार्वती ने 107 जन्म लिए थे भगवान शंकर को पति के रूप में पाने के लिए। अंततः मां पार्वती के कठोर तप और उनके 108 वें जन्म में भगवान ने पार्वती जी को अपनी पत्नी के रूप में स्वीकार किया। तभी से ऐसी मान्यता है कि इस व्रत को करने से मां पार्वती प्रसन्न होकर पतियों को दीर्घायु होने का आशीर्वाद देती हैं।

हरियाली तीज की पूजा विधि :

यह त्योहार वैसे तो तीन दिन मनाया जाता है लेकिन समय की कमी की वजह से लोग इसे एक ही दिन मनाते हैं। इसमें पतिव्रता पत्नियां निर्जला व्रत रखती हैं। हाथों में नई चूड़ियां, मेहंदी और पैरों में अल्ता लगाती हैं और नए वस्त्र पहन कर मां पार्वती की पूजा-अर्चना करती हैं।

यह व्रत केवल महिलाओं तक ही सीमित नहीं होता, बल्कि कई जगहों पर पुरुष मां की प्रतिमा को पालकी पर बैठाकर झांकी भी निकालते हैं।

- सबसे पहले महिलाएं किसी बगीचे या मंदिर में एकत्रित होकर मां पार्वती की प्रतिमा को रेशमी वस्त्र और गहने से सजाएं।

- फिर अर्धगोले का आकार बनाकर पार्वती माता की मूर्ति बीच में रखें और माता की पूजा करें। सभी महिलाओं में से एक महिला कथा सुनाए, बाकी सभी कथा को ध्यान से सुनें व मन में पति का ध्यान करें और पति की लंबी उम्र की कामना करें।

Fairs Around The World
India

Trilokpur stands on an isolated hillock about 24 K.M. southwest of Nahan. Trilokpur implies th...

India

The Rash Mela was the brainchild of a number of locals, said Mr Prabhash Dhibar, a 72-year-old...

India

The State of Rajasthan has so many attractions for tourists with its many palaces, temples and mo...

India

Lili Parikrama  around Mount Girnar in Junagadh district starts from the temple of Bhavna...

India

Vaisakh Purnima, the birthday of Lord Buddha is celebrated with much religious fervor across m...

United States


THE LONDON BOOK FAIR ANNOUNCES MOVE TO OLYMPIA IN 2015 AND LAUNCHES LONDON BOOK AND S...

India


Sita, the wife of Lord Ram, was left by Lakshman here to serve the period of her bani...

Copyright © FestivalsZone. All Rights Reserved.