» पितृ की मृत्यु तिथि पता न हो तो कब करें श्राद्ध

आश्विन मास के कृष्ण पक्ष में पितरों को तृप्त करने का उचित समय माना जाता है। इस कारण इसे पितृपक्ष भी कहते हैं। पंद्रह दिन तक चलने वाले इस पक्ष में लोग अपने पितरों को जल प्रदान करते हैं एवं उनकी मृत्युतिथि पर श्राद्ध रखते हैं। 

कुछ लोग ऐसे होते हैं जिन्हें अपने पित्रों की मृत्यु की तिथि ज्ञात नहीं होती इस समस्या के समाधान के लिए पितृपक्ष में कुछ विशेष तिथियां भी भी होती हैं जिस दिन श्राद्ध करने से हमारे सभी पितृजनों की आत्मा को शांति मिलती है। ये मुख्य तिथियां निमंलिखित हैं-

  • सर्वपितृमोक्ष अमावस्या - इस तिथि के दिन श्राद्ध करने से सभी परिजनों का श्राद्ध हो जाता है इस तिथि का विधान यह है, कि यदि किसी कारणवश परिजनों का श्राद्ध भूल जाये या चूक जाये तो इस दिन श्राद्ध करने से आप अपने परिजनों को तृप्त कर सकते हैं और अपनी भूल चुक का निवारण कर सकते हैं।
  • चतुर्दशी श्राद्ध - यह तिथि परिवार के उन परिजनों के लिए श्राद्ध करने की उतम तिथि है जिनकी मृत्यु आकस्मिक हुई हो जैसे दुर्घटना, हत्या इत्यादि।
  • एकादशी व द्वादशी श्राद्ध - ये तिथियां परिवार के उन परिजनों के श्राद्ध करने की उतम तिथि है जिन्होंने सन्यास लिया हो या सन्यासी का जीवन व्यतीत किया हो, यह इस तिथि श्राद्ध का विधान है।
  • नवमी श्राद्ध - इस श्राद्ध मे कुल की महिलाओं का श्राद करना उतम माना गया है इस दिन श्राद्ध करने से कुल की सभी महिलाओं को समस्त रूप से पूजा जा सकता है यह तिथि माँ के श्राद्ध के लिए सर्वोच्च है।
  • पंचमी श्राद्ध - कुंवारा पंचमी के नाम से ज्ञात इस श्राद्ध में उन परिजनों का श्राद्ध करना उतम है, जिनकी मृत्यु विवाह से पूर्व हुई हो।

आश्विन कृष्ण प्रतिपदा श्राद्ध - इस तिथि पर नाना नानी का श्राद्ध करना उतम माना गया है। यदि नाना-नानी के परिवार में कोई श्राद्ध करने वाला न हो और उनकी मृत्युतिथि भी ज्ञात न हो तो इस तिथि को श्राद्ध करने से उनकी आत्मा तृप्त होती है। और इससे घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है।

Fairs Around The World
India
Shattila Ekadashi...
India

People of the village of Vithappa in Karnataka hold the Sri Vithappa fair in honor of the epon...

India

The Yellamma Devi fair is held at the Yellamma temple located in Saundatti of Belgaum district...

India

Matki Mela is organized on the last day of 40 day fast. People keep fast till they  immer...

India

Baba Sodal Mela occupies a prominent place in the list of fairs in Punjab. The fair is held to pa...

India

The day of Kartik Purnima is often referred to as Raas Purnima in West Bengal when Raas Leelas...

India

Nanda Devi Raj Jat is one of the world-famous festivals of Uttarakhand in India. People...

Copyright © FestivalsZone. All Rights Reserved.